पाठक ज्यादा या लेखक? फर्क पङेगा क्या ? #MoreWritersThanReaders

India could soon have more writers than readers: Ruskin Bond

The ‘Padma Bhushan’ awardee said they must be sure to be able to write first. “Confidence in the language is a must. You should have something to say and be able to research on it well. Clarity is key.”

Rate this:

 

 

एक भी पंक्ति या वाक्य के लिखने के लिए

हाथ में कलम और मस्तिष्क में विचार होने चाहिए।

लेखक, और कवि बनने के प्रयास में

अगर लोग बौद्धिक अौर आत्मिक अभ्यास करते हैं ,

तब क्या फर्क पड़ता है कि पाठक ज्यादा है या लेखक?

यह तो मानसिक उपलब्धि है.

हम सभी जानते हैं कि हर स्तर के पाठक, लेखन ,लेखक व प्रकाशन मौजूद है।

और सभी का बाजार भी है।

अगर किसी ने लिखना शुरू कर दिया है।

तो क्या यह संभव नहीं है कि लिखते लिखते

उसके स्तर में, मानसिकता में, सुधार आए ?

और उसका स्तर ऊपर उठता जाए।

इसलिए हमारे दैश में ज्यादा जरूरी है कि

लोग पढ़ना और लिखना शुरू करें ।

कुछ भी लिखने के लिए पहली जरूरत है –

कुछ भी पढ़ना, हाथ में कलम उठाना ,

कुछ सीमा तक जागरूक और बौद्धिक होना ।

Edition 273

what do you think about this statement – India could soon have more writers than readers: Ruskin Bond#MoreWritesThanReaders

प्रश्न में हीं उत्तर – कविता

Are we really aware of how much we know? While Writing and teaching  one can examine or validate his/her knowledge.  Reading, Writing and Teaching may help you find an answer of this question.

 

जब कुछ लिखने बैठती हूँ, तब समझ आता है,

कितना कम जानती हूँ।

जब  पढ़ाना होता है, तब  भी समझ आता है,

कितना कम जानती हूँ।

अपने ज्ञान को मापने का है क्या कोई तरीका?

कि

हम क्या जानते हैं? अौर कितना जानते हैं?

प्रश्न में हीं उत्तर छुपा है…….. 

लिखना, पढ़ना अौर  पढ़ाना हीं

ज्ञान को आत्मसात  अौर अभिव्यक्त करने का  सबसे आसान तरीका है,

अौर अपने को परखने का तरीका भी लेखन और शिक्षण  हीं है!!!!!

Image from internet