रिमझिम

अंधेरी रात , बिजली गुल ,

मोमबत्ती की रौशनी ,गरजते बादल ,

रिमझिम वर्षा की बूँदे ले जाती हैं ,

यादों के साये में.

क्या सिर्फ़ मुझे या किसी और को भी ?

जो दुनिया की भीड़ में खो चुका हैं……,