जिंदगी के रंग -37 

तेज हवा में झोंके में झूमते ताजे खिले गुलाब 

की पंखुड़ियॉं  झड़ झड़ कर बिखरते देख पूछा –

नाराज नहीँ हो निर्दयी हवा के झोंके से ?

फूल ने कहा यह तो काल चक्र हैँ

 आना – जाना,  खिलना – बिखरना 

नियंता …ईश्वर…. के हाथों में हैँ

 ना की इस अल्हड़ नादान  हवा के  झोंके के वश में 

 फ़िर इससे कैसी  नाराजगी ? ? 

Moon and the night.

The

   moons

        stays

                bright,

                      when it

                                  doesn’t

                                              avoid

                                                     the night.

 ~ Rumi

संगत का असर

 

कहते हैं जैसा साथ, वैसी बात

संगत का असर पङता है,

पर

ना फूल को आया चुभना

ना काटों को आया महकना।