GLOBAL HUNGER INDEX – भूख एक गंभीर समस्या

India slips 3 notches to 100 on Global Hunger Index;

भारत में भूख एक गंभीर समस्या है. 119 देशों के ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत तीन पायदान नीचे खिसककर 100 स्थान पर पहुंच गया है. पिछले साल भारत इस सूचकांक (इंडेक्स) में 97वें पायदान पर था.

इंटरनेशनल फूड पॉलिसी रिसर्च इंस्टीट्यूट (IFPRI) ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि बच्चों में कुपोषण की उच्च दर से देश में भूख का स्तर इतना गंभीर है और सामाजिक क्षेत्र को इसके प्रति मजबूत प्रतिबद्धता दिखाने की जरूरत है.

India has a ‘serious’ hunger problem at hand, with the country slipping three notches to 100 among 119 countries on the Global Hunger Index (GHI), 2017. 
Over three-year duration, the country has seen a slide of 45 positions from 55 in 2014. However, the rankings are not strictly comparable, as the current formula was introduced in 2015. The earlier formula was used to calculate GHI scores from 2006 to 2014.

The primary difference is that the new formula standardises indicator values, and the ‘child underweight’ parameter has been replaced by ‘child stunting’ and ‘child wasting’.

Advertisements

Without watching the watch -Our body clock / Circadian Rhythm शरीर की घड़ी / सर्कैडियन लय (Noble Prize 2017)

हमारा “शरीर घड़ी” / सर्कैडियन लय हमारे  सोने, उठने, भूख लगने  और कई शारीरिक प्रक्रियाओं को बिना घङी देखे हमारे शरीर को बताता  रहता है। यह आंतरिक शरीर घड़ी पर्यावरण के संकेतों  जैसे धूप और तापमान जैसी बातों से प्रभावित हो सकता है। शोधों   से इसके  शरीर पर प्रतिकूल  प्रभावों की खोज हो रही है  जैसे हृदय संबंधी परेशानियाँ, मोटापे की संभावना, अवसाद और बाइपोलार ङिसअौङर   अादि।

फिजियोलॉजी या मेडिसिन में 2017 नोबेल पुरस्कार  अमेरिकी वैज्ञानिक जेफरी सी हॉल, माइकल रोजबाश और माइकल डब्ल्यू यंग  को “सर्कैडियन लय को नियंत्रित करने वाले आणविक तंत्र की उनकी खोज” के लिए दिया गया हैं। जो फ्लाइट जेट लैग की व्याख्या करती है।

Our “body clock” /  circadian rhythm is a cycle that tells our bodies when to sleep, rise, eat–regulating many physiological processes without watching  the watch. This internal body clock may be  affected by environmental cues, like  sunlight and temperature. When one’s circadian rhythm is disrupted, sleeping and eating patterns can be disturbed. No of researches are  examining the adverse health effects such as –  chances of cardiovascular problems, obesity, and a correlation with neurological problems like depression and bipolar disorder etc.

American scientists Jeffrey C Hall, Michael Rosbash and Michael W Young have won the 2017 Nobel Prize in Physiology or Medicine for “their discoveries of molecular mechanisms controlling the circadian rhythm”.