बराबरी की बात

आईने में  अपने प्रतिद्वंद्वी व मित्र को देखा।

जीवन की स्पर्धा, प्रतिस्पर्धा , मुक़ाबला

किसी और से नहीं अपने आप से हो,

तब बात बराबरी की है।

वर्ना क्या पता प्रतियोगी या हम,

कौन ज्यादा सक्षम है?

mirror and the heart

 

Between the mirror and the heart
                             

                           is this single difference:
           

                                         the heart conceals ,   ,

                                                           while the mirror does not.
                                                                                                                                              Rumi 💚💚